यह ब्लॉग खोजें

2021-02-25

समाज व् देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाना है?

 

समाज में सामाजिक परिवर्तन ने आधुनिक दुनिया को भ्रष्ट कर दिया है।हमारे कई मूल्य,शिष्टाचार और नैतिकता हमारे माता-पिता से लेकर प्रत्येक आने वाली पीढ़ी तक खत्म हो चुके हैं।
 
जब हम वास्तव में अपने समाज पर नज़र डालते हैं तो हम एक ऐसा समाज पाते हैं जो भीतर से भ्रष्ट है। कल के युवा आज के माता-पिता हैं और इसके साथ ही हम देखते हैं कि हमारे बहुत से वयस्क और युवा निर्णय लेते हैं कि वे वास्तव में मानसिक रूप से सक्षम नहीं हैं परिणामस्वरूप नैतिक मूल्य भ्रष्ट हो गए हैं। 
 
 

गर किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है,तो तीन प्रमुख सामाजिक सदस्य हैं,जो इसमें अपना योगदान दे सकते हैँ माता-पिता और शिक्षक।इन तीनो के बिना आप,आपकी सोसाइटी और आपका राष्ट्र कभी तरक्की और भ्रष्टाचार मुक्त नहीं हो पाओगे

 



माता पिता की विशेष भूमिका होती है अपने बच्चो को पालने में एक माँ का ओहदा जिसमे विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना गया है क्योकि माँ ही अपने बच्चे को नो महीने अपने पेट में रखती है उसके लिए कितनी दुःख तकलीफ सहती है

 

कहते है की माँ अपने बच्चे की सबसे अच्छी दोस्त, शिक्षिका होती है माँ का अपने बच्चे से गहरा रिस्ता होता है बच्चा भी माँ का स्वभाव और स्पर्श को महसूस करता है पैदा होने के बाद उसके लिए यह दुनिया बिलकुल अनजान होती है वह केवल अपनी माँ का स्पर्श पहचानता है उसी के साथ उसका गहरा रिश्ता बन जाता है माँ अपने बच्चे को मुसीबतों  दुख दर्द से बचाती है और उसका ला लन पोषण करती हैं


पिता की भी अपनी भूमिका होती है हालाँकि पिता का हृदय माँ के हृदय से थोड़ा कठोर माना गया है परन्तु इसका मतलब यह नहीं है कि पिता को अपने बच्चे से प्यार नहीं है पिता भी अपने बच्चे की खुशियों खूब मेहनत करता है उसकी सारी इच्छाएं  पूरी करने की कोशिश करता  है माता पिता के लिए अपने किसी भी बच्चे में फर्क नहीं किया जाता कहते हैं न की जो आदत  आप अपने बच्चे को सिखाओगे वह उसी आदत को अपना लेता है

  

 
घर में  परवरिश कर जब बच्चा थोड़ा बड़ा हो जाता है माता पिता उसके लिए एक अच्छा स्कूल और एक अच्छा  शिक्षक तलाशने की कोशिश करते हैं ताकि उनका बच्चा अच्छी तालीम ले कर कामयाब इंसान बने और उनका नाम रोशन करे है माता पिता अपने बच्चे के लिए ये स्वपन देखते हैं और इसे पूरा करने के लिए घर के बाद उस स्कूल और शिक्षक पर निर्भर करते हैं जो उसका भविष्य अपना ज्ञान  देकर बनाएगा

 

माता पिता और शिक्षक की अहम् भूमिका उस बच्चे का भविष्य बनाने पर होती है ताकि वह एक कामयाब और नेक इंसान बने उसमे अच्छाइयाँ हों बुरे काम से वह दूर रहे जहाँ भी काम करे ईमानदारी से करे,किसी का दिल न दुखाये मज़बूर और गरीब की मदद करे

 

शिक्षा न केवल हमारे युवाओं के लिए बल्कि माता-पिता के लिए यह समझने के लिए सर्वोपरि है कि उचित मार्गदर्शन,अनुशासन और शांत समझ की भावना कि प्रत्येक बच्चा अद्वितीय है। यह माता-पिता पर निर्भर है कि वे अपने जीवन में पूर्णता लाने के लिए उस गुण का पोषण करें।ऐसा करने के लिए आर्थिक और वित्तीय सहायता उपलब्ध होनी चाहिए। 


अगर ये सब गुण हर एक बच्चे में विद्यमान हों तो किसी भी देश को भ्रष्टाचार मुक्त होने से कोई नहीं रोक सकता
  

 

विकासशील राष्ट्र भ्रष्टाचार की अत्यधिक दर के लिए जाने जाते हैं।भ्रष्टाचार के तेजी से बढ़ने की दर किसी भी सरकार और ऐसे राष्ट्र के अच्छे नागरिक के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है।भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने या उसके खिलाफ लड़ने के लिए अनेको प्रयास किये जा रहे हैं 
 

विकासशील देशों में,भ्रष्टाचार विभिन्न रूप धारण कर लेता है।इसतरह के कुछ रूपों में अधिक मूल्य निर्धारण,अवैध रूप से भुगतान में तेजी लाना, अनुबंधों को सुविधाजनक बनाना,नियमों में हेरफेर करके,सार्वजनिक बोली में हेराफेरी करना,अवैध धन उगाहना और मनी लॉन्ड्रिंग है। 
 
भ्रष्टाचार हर जगह हो रहा है और पूरी दुनिया भ्रष्ट है। यह केवल उच्च वर्ग के समाजों का ही हिस्सा नहीं है, बल्कि यह सभी समाजों,राष्ट्रों और देशों का है।
  

भ्रष्टाचार निवारण के उपाय

 

अपने देश में भ्रष्टाचार को जड़ से ख़त्म करने और उसके निवारण के निम्न उपाए हैं :-

 

1.स्वतंत्रता
2.मुफ्तशिक्षा
3.सार्वभौमिक-स्वास्थ्य-देखभाल
4.अपने नागरिको को रोजगार उपलब्ध करवाना
5.मुलभुत सुविधाओं की पूर्ति होना
6.आप जो चाहते हैं वह होने की आजादी प्रत्येक देश की समग्र खुशी में एक बड़ी भूमिका निभाती है
 
अगर किसी देश के नागरिको को उपरोक्त सुविधाएँ मुहैया करवाई जाये तो मेरे ख्याल से उस देश और सोसाइटी में भ्रष्टाचार के मामले बहुत हद तक समाप्त या फिर कम हो जायेंगे
 

बहुत से ऐसे राष्ट्र हैं जो आवश्यक मुलभुत सुविधाओं से सम्पन हैं जिनके नागरिक अपने राष्ट्र की सरकारों से बेहद खुश हैं अगर किसी देश के नागरिक सुविधा सम्पन हैं तो वहां पर  भ्रष्टाचार होना न के बराबर है


 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

If you have any doubt Please let me know

Popular Posts