यह ब्लॉग खोजें

2021-07-11

बदलाव पर सुविचार|thoughts on change

जैसे ही गर्मी के आखिरी दिन चले जाते हैं और शरद ऋतु का अगमन होने लगता है  हम एक बार फिर पहचानते हैं कि परिवर्तन अनिवार्य है।प्रकृति लगातार बदल रही है कभी गर्मी है कभी सर्दी तो कभी पतझड़ तो कभी वर्षा  और फिर भी,बहुत से लोग यह सोचते हैं की परिवर्तन बहुत ही  भयानक है परन्तु ऐसा वास्तव मे नहीं है ।

                        


हमे एक आदत की लत लग जाती है कोशिश करें पर छूटती नहीं है हम उसके मुरीद हो जाते हैं ।कभी-कभी हमें यह महसूस करने की आवश्यकता होती है कि जीवन हमेशा आसान नहीं होता है।हमारे लिए जो बेहतर हो सकता है वह नहीं है जो हम अभ्यस्त हैं, लेकिन यह निश्चित रूप से नई आदतों और जीवन शैली में बदलाव को तोड़ने की परेशानी के लायक है।


हमारी यह इच्छा रहती है की परिवर्तन दुखदाई न हो सब कुछ सुगमता से हो जाये।सुंदर रंगीन पतझड़ के पत्ते प्रिय जीवन के लिए पुराने पेड़ पर नहीं लटकते।नहीं,वे परिवर्तनों को आसानी से स्वीकार कर लेते हैं और पेड़ से धीरे-धीरे उतरने लगते हैं यह प्रकृति का नियम है ।


झरने काम की प्रेरणा{Waterfalls}-2021-जानिए 

{Spirit}+(आत्मा)-जानिए

सच्चा प्यार क्या है |True Love in hindi|-जानिए


शरद ऋतु के आगमन के साथ हम अपने बगीचों में पुराने पौधों को हटा देते हैं और कुछ समय धरती को आराम करने के लिए खाली छोड़ देते हैं।हम जानते हैं कि जमीन को आराम देना चाहिए और अगले साल हमारे बगीचे में हमें प्रसन्न करने के लिए और भी अद्भुत चीजें होंगी।


आपके जीवन मे भी कुछ ऐसी चीजें होगी जिनमे आप भी परिवर्तन लाना या बदलना चाहते है?हो सकता है कि कुछ बुरे रिश्ते या आदतें या विचार हों, जिन्हें आपके जीवन से बाहर निकालने की आवश्यकता हो। 


डॉक्टर को आपके रोग के बारे मे आपसे बेहतर पता है वही आपकी बीमारी को जड़ से काटने में आपकी मदद कर सकता है अगर आप जड़ को नहीं पकड़ेंगे लाख इलाज करवा ले कभी तंदरुस्त नहीं होंगे एक बगीचे का माली भी पोधो को अच्छी तरह से जनता है जब तक हम जड़ों तक नहीं पहुंचेंगे   यह बहुत जल्दी बगीचे में वापस आ जाएगा।


हालांकि फसल का समय यहाँ है,हमारे मन के बगीचे को निराई करने का समय नहीं है।हमें फलने-फूलने और हम जो हो सकते हैं,उसके लिए इस उद्यान को निरंतर ध्यान देने की आवश्यकता है।इस बगीचे को शीर्ष आकार में रखने का एकमात्र तरीका यह सुनिश्चित करना है कि कोई भी खरपतवार हमारे द्वारा किए जा रहे किसी भी अच्छे काम का गला घोंटने की कोशिश न कर रहा हो।हमारे मन के मातम,निश्चित रूप से नकारात्मक विचार हैं जो हमें रेंगना पसंद करते हैं और हमें वह हासिल करने से रोकते हैं जिसके लिए हम प्रयास कर रहे हैं।


हमें डर और नकारात्मकता को अपने पीछे रखना चाहिए।कैसे, तुम पूछते हो? जिस तरह पतझड़ के पत्ते पेड़ से धीरे-धीरे झड़ते हैं,उसी तरह रातों रात अपनी सोच में बदलाव करने की कोशिश न करें और तुरंत परिणाम पाने की उम्मीद करें।हम इन विचारों को अपने दिमाग से उतना नहीं निकाल सकते जितना हम कभी-कभी चाहते हैं।नहीं, हमें अपने प्रति कोमल होना चाहिए और सकारात्मक विचारों को नकारात्मक की जगह लेने देना चाहिए।


आपको अपने दिमाग को सकारात्मक और Positivity से भरना चाहिए। जब आपके मन में नकारात्मक विचार आते हैं, तो आपको उन विचारों को सकारात्मक विचारों से बदलने के लिए तैयार रहना चाहिए। बस अपने आप से कहो, नहीं,मैं उस विचार को अपने मन पर हावी नहीं होने दूंगा, मैं सकारात्मक सोचूंगा।आसानी से उपलब्ध होने के लिए Affirmations अच्छा है ताकि आप नकारात्मक विचार को सकारात्मक से बदल सकें।यह आसान नहीं होगा,यह कठिन भी नहीं होगा,यह बस अलग होगा,जैसे कि जूते की नई जोड़ी के बारे में हम पहले बात कर रहे थे।

 

नए जीवन के लिए रास्ता बनाने के लिए पतझड़ के पत्ते गिरते हैं।हमें भी उन परिवर्तनों से गुजरना होगा जो हमारे शरीर,आत्मा में नई वृद्धि लाएंगे।


परिवर्तन होना स्वाभाविक है तोह हम इसे नज़रअंदाज न करें बल्कि इसको ग्रहण करें और इसके मुताबिक खुद में भी बदलाव लाएं?हां,परिवर्तन के लिए हमें थोड़ा सा समायोजन करने की आवश्यकता होगी।बदलाव से डरो मत,एक बदलाव आपका भला करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

If you have any doubt Please let me know

Popular Posts